ALL दुनिया देश शहर और राज्य उत्तर प्रदेश राजनीति खेल क्रिकेट चुनाव बॉलीवुड ज्योतिष
उत्तर प्रदेश में सामूहिक प्रयासों द्वारा सभी को गुणवत्तापरक स्वास्थ्य की उपलब्धता के विषय पर वर्चुवल वेबिनार का आयोजन हुआ सम्पन्न
August 17, 2020 • ASHWANI JAISWAL • उत्तर प्रदेश

लखनऊ, 17 अगस्त, 2020। उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह की अध्यक्षता में प्रजनन, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, टीबी, फाइलेरिया और कालाजार जैसे संचारी रोगों के सम्बन्ध में एकीकृत प्रयासों हेतुवेबिनार का आयोजन किया गया। इस अवसर पर ग्राम प्रधानों द्वारा समुदाय स्तर पर स्वास्थ्य और पोषण के सम्बन्ध में की गयी गतिविधियों पर आधारित एक फोटोबुक का डिजिटलविमोचन भी किया गया। इस वेबिनार मे आलोक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश, आलोक रंजन, पूर्वमुख्य सचिव उत्तरप्रदेश, देवेन्द्रखडेट, उप निदेशक, बिल एवं मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन, डॉ डि.वी.पी सिंह, अपर निदेशक मलेरिया एवं वेक्टर बोर्नडीजिजेज, उत्तरप्रदेश, पद्मा बुगेनिनी, टीम लीडर परिवार नियोजन, केयर इंडिया, शरत प्रधान, वरिष्ठ पत्रकार एवं निधि दुबे, सीनियर वॉयस प्रेसिडेंट, हेल्थ स्ट्रेटजीज एवं विभिन्न क्षेत्रों के सहयोगियों ने प्रतिभाग किया। 


कोविड-19 महामारी के समय लोंगो को अन्य संक्रमक बीमारियों से बचाना सरकार के लिए बड़ी चुनोती है। इसके लिए भारत सरकार के दिशानिर्देश के अनुसार प्रदेश स्तर पर भी रणनीतियों के तहत कार्य किया जा रहा है। वर्तमान समय की परिस्थितियों में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की स्वास्थ्य सुविधाओं की प्रकिया तंत्र को सुव्यस्थित कैसे रखा जाए क्योंकि, गुणवत्ता परक स्वास्थ्य सेवाओं को प्रत्येक व्यक्ति तक पहुचाना ही स्वास्थ्य प्रणाली की सफलता को सुनिश्चित करता है। हाल ही में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 महामारी के प्रभाव के कारण टीवी और मलेरिया से संबंधित मौतों में क्रमशः 20% और 36% की वृद्धि हो सकती है। फाइलेरिया के नियंत्रण के लिए चलाये जाने वाले मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एमडीए) कार्यक्रम कई प्रदेशों में समय से नही आयोजित हो पा रहे है। मातृ और बाल स्वास्थ्य के लिए आवश्यक सेवाओं पर भी असर पड़ रहा है। प्रदेश सरकार के अथक प्रयासों के परिणामस्वरूप स्वास्थ यूपी की परिभाषा को हम सार्थक कर रहे थे, लेकिन कोविड-19 महामारी के समय प्रमुख स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओं के बाधित होने के कारण गर्भवती महिलाओं, नवजात शिशुओं और किशोरों को अधिक जोखिम का सामना करना पड़ रहा है। 

उपरोक्त चुनोतियों पर चर्चा और इनके समाधान के लिए, ग्लोबल हेल्थ स्ट्रेटजीज द्वारा उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री  जय प्रताप सिंह की अध्यक्षता में प्रजनन, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, टीबी, फाईलेरिया और कालाजार जैसे संचारी रोगों के सम्बन्ध में एकीकृत प्रयासों हेतु वेबिनार का आयोजन किया गया। इस वेबिनार में विभिन्न प्रदेशों में स्वास्थ्य और पोषण के क्षेत्र में अपनाई जा रही कुछ बेस्ट प्रैक्टिसेज को भी साझा किया गया। साथ ही स्वास्थ्य मंत्री के कर कमलो से ग्राम प्रधानों और धार्मिक नेताओ द्वारा कम्युनिटी इंगेजमेंट लीडरशिप प्रोजेक्ट (सेल्ड) के अंतर्गत स्वास्थ्य और पोषण गतिविधियों को दर्शाती हुयीं फोटोबुक का डिजिटल अनावरण हुआ।

वेबिनार में उत्तरप्रदेश के पूर्व सचिव आलोक रंजन की अध्यक्षता में एक पैनल डिस्कशन का आयोजन भी किया गया। इसी क्रम में आलोक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री, उत्तरप्रदेश ने प्रदेश सरकार द्वारा स्वास्थ्य सुविधा सबके लिए को चरितार्थ करने के लिए निजी संस्थाओं के महत्व के बारे में बताया। पाथ के तकनीकि निदेशक डॉ. शिबुविजयन ने दी। इसके साथ ही उन्होंने महाराष्ट्र केई वाउचर का उदाहरण देते हुए, टीबी मरीजों को प्रदान हो रही सुविधाओं के बारे में बताया। वार्ड फ्रुड प्रोग्राम की प्रतिनिधि डॉ. शारिका ने बताया की उत्तर प्रदेश में कुपोषण की समस्या के लिए किस रणनीति के तहत कार्य किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज लोगों को खाद्य सुरक्षा से अधिक पोषण की अवश्यकता है। चर्चा के बढ़ते क्रम में अपर निदेशक मलेरिया एवं वेक्टर बोर्नडीजीज, उत्तर प्रदेश डॉ. वी.पी.सिंह ने महत्वपूर्ण जानकरी देते हुए बताया कि जुलाई माह में प्रदेश सरकार द्वारा चलाये गए "दस्तक़ अभियान" में फाईलेरिया और कालाजार जैसी संक्रमक बीमारियों की रोकथाम को भी शामिल किया गया। निःसन्देह इससे प्रदेश में वेक्टर जनित रोगो की रोकथाम में महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त होगी। केयर इण्डिया की टीम लीड पद्मा बुगेनेनी ने कोविड-19 के समय में परिवार नियोजन को एक बहुत बड़ी चुनोती बताया। बिहार के उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि नवीन दृष्टिकोणों को अपनाने से परिवार नियोजन से संबंधित चुनोतियाँ का सामना किया जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा की इस वेबिनार के महत्वपूर्ण बिंदुओं को संकलित किया जायेगा। और उनपर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। 


वेबिनार के अंत में ग्लोबल हेल्थ स्ट्रेटजीज की सीनियर वॉयस प्रेसिडेंट निधि दुबे ने चर्चा किये गए समस्त बिन्दुओ के आधार पर भावी रणनीति के सम्बन्ध में बताया। इसी के साथ वेबिनार का आयोजन को सम्पन्न हुआ।