ALL दुनिया देश शहर और राज्य उत्तर प्रदेश राजनीति खेल क्रिकेट चुनाव बॉलीवुड ज्योतिष
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि अनलॉक का मतलब स्वतंत्रता नहीं,5 लोग से अधिक एकत्र न हों
June 6, 2020 • ASHWANI JAISWAL • उत्तर प्रदेश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए पूरी सावधानी बरतने पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि अनलॉक का मतलब स्वतंत्रता नहीं है। उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए। कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि सार्वजनिक स्थानों पर पांच से अधिक लोग एकत्र न हों। 

पुलिस प्रभावी पेट्रोलिंग करते हुए भीड़ को एकत्र होने से रोके। मुख्यमंत्री शनिवार को अपने आवास पर उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने 15 से 30 जून के एक करोड़ मानव दिवस प्रतिदिन सृजित करने के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं। 
कहा कि इस कार्ययोजना के सफल क्रियान्वयन के लिए सभी संबंधित विभाग अपनी गतिविधियों और कामों को चिह्नित करें। इस अवधि में कृषि, उद्यान, वन विभाग द्वारा पौधरोपण के लिए गड्ढे खोदने, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क निर्माण की योजना, चेक डैम निर्माण, जल जीवन मिशन से जुड़े कामों सहित विभिन्न कार्य करते हुए रोजगार उपलब्ध कराए जाए। 
उन्होंने नगर विकास विभाग तथा ग्राम्य विकास विभाग को निर्देश दिए कि स्ट्रीट वेंडरों को रोजगार देने के संबंध में एक जिले का चयन करते हुए उसका अध्ययन करें। स्ट्रीट वेंडरों को पीएम पैकेज के साथ जोड़कर रोजगार उपलब्ध कराने का एक मॉडल तैयार करें।

उन्होंने कहा कि पटरी दुकानदारों के लिए प्रधानमंत्री के विशेष आर्थिक पैकेज में 10 हजार रुपए के ऋण की व्यवस्था की गई है। उन्होंने पटरी दुकानदारों को इस योजना का लाभ सुनिश्चितत कराने के निर्देश दिए। कहा कि पटरी दुकानदारों के लिए ऐसे स्थान चयनित किए जाएं, जहां वे सुगमतापूर्वक अपना कारोबार कर सकें और यातायात भी अवरुद्ध न हो।

श्रमिकों को किराए पर सस्ते मकान उपलब्ध कराएं
सीएम योगी ने कहा कि राज्य सरकार का संकल्प है कि कोई सड़क पर न सोए । प्रधानमंत्री के पैकेज में श्रमिकों, कामगारों के लिए किराए पर मकान उपलब्ध कराने के लिए भवन निर्माण की व्यवस्था है। इस प्रावधान का भरपूर उपयोग किया जाए, ताकि श्रमिकों के लिए किफायती किराए पर सुरक्षित एवं सुविधायुक्त आवास की व्यवस्था की जा सके। 
 
किराए पर सस्ते मकान से बड़ी संख्या में कामगार व शहरी गरीब लाभान्वित होंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कार्यरत दूसरे राज्यों के श्रमिक यदि अपने गृह प्रदेश जाना चाहते हैं तो उनकी सकुशल वापसी की व्यवस्था की जाए। 

यदि ऐसे श्रमिक वापस जाने के इच्छुक न हों, तो उनका यह निर्णय लिखित रूप में प्राप्त कर लिया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी रेलवे स्टेशनों पर प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अवश्य उपस्थित रहें।

श्रमिकों को रोजगार देने के लिए सॉफ्टवेयर विकसित करें
सीएम योगी ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा है कि प्रदेश के नव निर्माण में दूसरे राज्यों से कामगारों व श्रमिकों का योगदान लिया जाए। इसके लिए यह सुनिश्चित करें कि सभी जिलों में उनके लिए रोजगार सुलभ हो। 

इस पर केंद्रित एक सॉफ्टवेयर विकसित करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में विभिन्न सेक्टरों में इन कामगारों के लिए रोजगार की संभावनाएं चिह्नित की जाएं। निर्माण कार्यों से जुड़े विभाग श्रमिकों के लिए रोजगार की उपलब्धता के आकलन की कार्य योजना बनाएं।

उद्यमियों, व्यापारी संगठनों से संवाद बनाकर काम करें
मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि वे उद्योग जगत और व्यापारी संगठनों से संवाद बनाकर कार्य करें। साथ ही, मंडलायुक्तों व जिलाधिकारियों से नियमित संवाद स्थापित रखते हुए कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को सुचारू व सुदृढ़ बनाए रखें। 

उन्होंने कहा कि निगरानी समितियों को निरंतर सक्रिय रखा जाए। कोरोना पॉजिटिव मरीज का उपचार कोविड अस्पताल में ही हो। डॉक्टरों सहित सभी चिकित्साकर्मियों का प्रशिक्षण जारी रखा जाए। उन्होंने आगरा, मेरठ, अलीगढ़, कानपुर तथा फिरोजाबाद के मेडिकल कॉलेजों पर विशेष ध्यान देने के निर्देश भी दिए।

गो-आश्रय स्थलों के लिए जरूरी प्रबंध करें
सीएम योगी ने गौ-आश्रय स्थलों पर गौवंश के लिए सभी आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कहा कि गायों को पर्याप्त मात्रा में चारा उपलब्ध कराया जाए। गर्मी और बरसात से बचाव के समुचित प्रबंध किए जाएं। उन्होंने ग्रामीण और शहरी इलाकों में सेनिटाइजेशन के कार्य को लगातार किए जाने के निर्देश भी दिए।


Download Amar Ujala App for Breaking News in Hindi & Live Updates. https://www.amarujala.com/channels/downloads?tm_source=text_share