ALL दुनिया देश शहर और राज्य उत्तर प्रदेश राजनीति खेल क्रिकेट चुनाव बॉलीवुड ज्योतिष
जिलाधिकारी ने जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय की बैठक में बिन्दुवार की समीक्षा
May 8, 2020 • ASHWANI JAISWAL • उत्तर प्रदेश

प्रतापगढ़।  जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार की अध्यक्षता में आज कैम्प कार्यालय के सभागार में जिला स्वास्थ्य समिति (शासी निकाय) की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिला कार्यक्रम प्रबन्धक द्वारा अवगत कराया गया कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत आवंटित बजट 71.65 करोड़ के सापेक्ष 57.31 करोड़ का व्यय सम्पादित किया गया है किन्तु यह तथ्य प्रकाश में आया कि तम्काबू नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत 24.78 प्रतिशत, वेक्टर बोड डिजिट के अन्तर्गत 32.54 प्रतिशत, कैन्सर डायविटिज नियंत्रण में 28.71 प्रतिशत धनराशि ही अब तक व्यय की गयी थी जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुये कहा कि इन सब कार्यक्रमों में तेजी लायी जाये। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा बताया गया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत विभिन्न कार्यक्रमों हेतु वित्तीय वर्ष 2020-21 की लॉकडाउन के कारण निविदा प्रक्रिया नही हो सकी जिससे कार्यक्रम की शुरूआत नही हो सकी जिस पर जिलाधिकरी ने कहा कि नई निविदा प्रक्रिया शुरू करायी जाये और निविदा होने तक पुरानी प्रक्रिया की दर पर धनराशि का भुगतान सुनिश्चित किया जाये। कोविड-19 हेतु प्राप्त बजट व्यय की धनराशि के सम्बन्ध में चर्चा के दौरान जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि दैवी आपदा के समय ड्यिटी कर रहे सभी स्वास्थ्य कर्मियों, डाक्टर आदि को सभी सुरक्षात्मक किट उपलब्ध करायी जाये। उन्होने विधायक निधि से प्राप्त धनराशि के सम्बन्ध में मुख्य चिकित्साधिकारी से जानकारी प्राप्त की तो बताया गया कि 54.90 लाख रूपये की धनराशि प्राप्त हुई है, व्यय के सम्बन्ध में जानकारी ली गयी तो सीएमओ द्वारा बताया गया कि अभी धनराशि व्यय नही की गयी है जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुये कहा कि तत्काल धनराशि को कोरोना वायरस की रोकथाम एवं बचाव हेतु आवश्यक व्यवस्थायें  नियमानुसार सुनिश्चित की जाये। उन्होने ग्राम स्वच्छता एवं पोषण समिति के खाते में प्रथम किस्त के रूप में प्रति ग्राम पंचायत 5000 रूपये की धनराशि उपलब्ध कराने के निर्देश दिये, इस धनराशि के व्यय होने के पश्चात् द्वितीय किस्त की धनराशि को अवमुक्त करने के भी निर्देश दिये। जिन ग्रामसभाओं द्वारा अनटाइड फण्ड की धनराशि का व्यय न किया जाये उन ग्रामसभाओं में द्वितीय किस्त का भुगतान न किया जाये। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि टी0वी0 मरीजों की जांच की प्रक्रिया ब्लाक एवं तहसील स्तर पर सुनिश्चित की जाये। बैठक में जिलाधिकारी ने कोविड-19 महामारी के संक्रमण एवं बचाव व रोकथाम हेतु जनपद में आशा एवं आशा संगिनी द्वारा अब तक किये गये कार्यो की सराहना की गयी तथा मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि अप्रैल एवं मई माह हेतु आशा को 1000 रूपये तथा आशा संगिनी को 500 रूपये की धनराशि का भुगतान किया जाये। बैठक में कोरोना संक्रमण से बचाव के दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अधीक्षक सब्बीर हैदर द्वारा किये गये उल्लेखनीय कार्य की जिलाधिकारी ने सराहना की और समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अधीक्षक सहित बैठक में उपस्थित अधिकारियों को सम्बोधित करते हुये कहा कि हम आशा व्यक्त करते है कि इस कोरोना महामारी में सी0एच0सी0 अधीक्षक बाघराय द्वारा जो कार्य किया गया है इस तरह का सराहनीय कार्य आप लोगों द्वारा भी जनसामान्य हेतु सेवा प्रतिबद्धता की भावना के साथ किया जाये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 अमित पाल शर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अरविन्द कुमार श्रीवास्तव, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार सहित सम्बन्धित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। बैठक का संचालन डीपीएम राज शेखर द्वारा किया गया।