ALL दुनिया देश शहर और राज्य उत्तर प्रदेश राजनीति खेल क्रिकेट चुनाव बॉलीवुड ज्योतिष
देर रात जिलाधिकारी ने बी0एस0एस0, अत्रेय एकेडमी एवं डा0 जयमंगल सिंह प्रशिक्षण संस्थान में बने फैसेलिटी क्वारेन्टाइन सेन्टर का किया निरीक्षण
May 13, 2020 • ASHWANI JAISWAL • उत्तर प्रदेश

डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक शिक्षण संस्थान के कम्युनिटी किचेन में गन्दगी देखकर जिलाधिकारी ने नोडल अधिकारी को दी चेतावनी

प्रतापगढ़।  जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार ने कल देर रात बी0एस0एस0 एकेडमी, अत्रेय एकेडमी एवं डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक शिक्षण संस्थान भुपियामऊ में बने फैसेलिटी क्वारेन्टाइन सेन्टर का निरीक्षण किया। अत्रेय एकेडमी के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने प्रत्येक कक्ष में जाकर प्रवासी मजदूरों से भोजन की व्यवस्था एवं उनके स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। एक कक्ष में अन्दर जाने पर पाया गया कि कमरें में सोशल डिस्टेसिंग का पालन नही हो रहा है, एक-दूसरे के विस्तर के बीच की दूरी काफी कम है जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुये नायब तहसीलदार सदर को निर्देशित किया कि सभी कमरों में प्रत्येक दशा में सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन किया जाये। अत्रेय एकेडमी में 207 प्रवासी मजदूर क्वारेन्टाइन किये गये है जिनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया। बी0एस0एस0 एकेडमी के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने प्रत्येक कक्ष में जाकर प्रवासी मजदूरों से भोजन की व्यवस्था एवं उनके स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की तथा सोशल डिस्टेसिंग का शत प्रतिशत अनुपालन कराने हेतु अधिकारियों को निर्देशित किया। जिलाधिकारी ने प्रवासी श्रमिकों को निर्देशित किया कि यहां से घर जाने के बाद 21 दिनों तक होम क्वारेन्टाइन में बने रहे ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण की सम्भावना से बचा जा सके। होम क्वारेन्टाइन में रहते हुये आशा एवं ए0एन0एम0 द्वारा सम्पर्क किये जाने पर उनके द्वारा दिये गये सुझावों पर अमल करें। 
इसी प्रकार डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक शिक्षण संस्थान भुपियामऊ में बने क्वारेन्टाइन सेन्टर का जिलाधिकारी ने निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने प्रवासी श्रमिकों के तहसीलवार बनाये गये काउन्टर पर कर्मचारियों से जानकारी प्राप्त की तथा राहत किट वितरण व्यवस्था के सम्बन्ध में निर्देशित किया गया कि श्रमिकों को राहत किट उपलब्ध करायी जाये तथा उनका हस्ताक्षर भी रजिस्टर पर अवश्य प्राप्त किया जाये। स्वास्थ्य टीम द्वारा संस्थान के प्रथम तल पर बैठकर स्वास्थ्य परीक्षण किये जाने पर नाराजगी व्यक्त की तथा मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि संस्थान के बाहर बरामदे के नीचे स्वास्थ्य टीम अपना काउन्टर लगाकर प्रत्येक आने वाले श्रमिक का गम्भीरता से परीक्षण कराना सुनिश्चित करें। इसी तरह से तहसीलवार टीम को भी निर्देशित किया गया कि वह संस्थान के बाहर बरामदे में बैठकर मजदूरों का विवरण दर्ज करें। जिलाधिकारी ने कम्युनिटी किचेन के निरीक्षण में पर्याप्त सफाई न रहने तथा परिसर में गन्दगी पाये जाने पर एवं पेयजल की अपर्याप्त व्यवस्था तथा पर्यवेक्षण में लापरवाही पाये जाने पर नोडल अधिकारी चकबन्दी अधिकारी ओंकार सिंह चेतावनी देते हुये निर्देशित किया कि परिसर में पायी कमियों को तत्काल दूर करायें तथा उपजिलाधिकारी सदर एवं मुख्य चिकित्साधिकारी से समन्वय बनाकर क्वारेन्टाइन सेन्टर पर शासन के निर्देशों का शत् प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करायें। संस्थान से बाहर निकलने पर 8 से 10 मजदूर सड़क पर बैठे मिले जिनके सम्बन्ध में जानकारी करने पर उनके द्वारा बताया गया कि अभी स्वास्थ्य परीक्षण नही किया गया है जिस पर जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य टीम से उनका स्वास्थ्य परीक्षण करने का निर्देश दिया तथा मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि संस्थान पर किसी वरिष्ठ चिकित्साधिकारी को तैनात कर प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित करें कि जो भी श्रमिक आ रहे है उनका स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य रूप से किया जाये तथा उन्हें क्वारेन्टाइन में रखा जाये। निरीक्षण के दौरान